PCOD/PolyCystic Ovarian Diseases का कारण, लक्षण और निदान

3
561
Poly Cystic Ovarian Diseases

PCOD/PolyCystic Ovarian Diseases का कारण, लक्षण और निदान/Diagnosis

PCOD Test

PCOD/PolyCystic Ovarian Disease जिसे PolyCystic Ovarian Syndrome (PCOS) bhi कहा जाता है, एक महिलाओ में पाया जानेवाली Common Problem है।

अनुमान किया जाता है की Reproduction की Age वाली 95 लाख से ज्यादा Females को PCOD है तथा इनमे से 65 % से ज्यादा महिलाओ को पता नहीं होता है की उन्हें यह Disease है


कुछ सालो पहले तक यह Problem 30 से 35 साल के ऊपर की Females में ही Commonaly होती थी परन्तु अब कम age की Girls में भी यह ज्यादा प्रमाण में दिखाई दे रही है। कई Females, PCOD के चलते pregnant नहीं हो पाती हैं।

Must Readहेल्दी दिखने वाले ज्यादातर लोग हैं Vitamins की कमी के शिकार: रिसर्च

PCOD क्या है ? What Is PCOD?


महिलाओ में Sex Hormones के Imbalance के कारण Ovary में small गांठ या cyst तैयार हो जाती है जिस कारण Females के Menstrual Cycle के साथ प्रजनन क्षमता /Fertility पर भी असर पड़ता है। अगर समय पर PCOD का सही इलाज न किया जाए तो आगे जाकर यह Cancer का रूप भी ले सकती है।

महिलाओ में Ovaries में सामान्य से अधिक मात्रा में Androgen Hormones की Production होने पर Ovaries में छोटी-छोटी तरल पदार्थयुक्त cyst तैयार हो जाती है जो Slowely आकार में बढ़ने लगती है। इससे Females में प्रजनन क्षमता कम हो जाती है और महिला गर्भधारण करने में असमर्थ हो जाती है।

PCOD के क्या लक्षण होते हैं ? 
What are PCOD symptoms in Hindi

Females में निम्नलिखित लक्षण पाए जा सकते हैं :

*अनियमित मासिक धर्म/Irregular Menstrual cycle

*चेहरे / शरीर पर अधिक बाल होना

*मुंहासे/Acne ज्यादा होना

*सिर में रूसी या Dandruff होना

*पेटदर्द होना

*गर्भधारणा/Pregnancy में मुश्किल आना

*गर्भ में small cysts जो की Ultra Sound Scan करने पर दिखाई देती है 

*बार बार गर्भपात/abortion होना

*सिर के बालो का अधिक झड़ना/Hairfall

*त्वचा पर दाग/ rashes

*मोटापा/ weight gain/Obesity

Also Read, खीरा/ Cucumber खाने के बाद पानी पीना चाह‍िए या नहीं, जान‍िए सच Scientifically

PCOD के क्या कारण होते हैं ?
What are the Causes of PCOD in Hindi

इसके होने का main Reason महिलाओ में Male Hormones की Normal से ज्यादा प्रमाण में Production होना है।

पिछले 10 to 15 years में Females में PCOD की 50 से 60 प्रतिशत वृद्धि हुई है।

इस Abnormal वृद्धि के कुछ खास कारण इस प्रकार हैं :

1.Low Grade Inflammation in Body:


शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर में बाहर के संक्रमण से लड़ने वाले विभिन्न पदार्थों का उत्पादन करती है। 
यदि आप पॉलीसिस्टिक Ovarian Cyst से प्रभावित हैं, तो आप इस inflammation से प्रभावित होने की अधिक संभावना रखते हैं जो शरीर में Androgens, male hormones, के उत्पादन का कारण बनता है।

2. इंसुलिन:


 इंसुलिन एक हार्मोन है जो  को शरीर में ऊर्जा का उत्पादन करने की अनुमति देता है।  आप इंसुलिन Resistance का अनुभव कर सकते हैं जिसका अर्थ है कि शरीर में ऊर्जा का उत्पादन बाधित हो सकता है।  

यह शरीर मे एण्ड्रोजन production को भी जन्म दे सकता है जो ओवरी को weak कर सकता है और इनकी ओवुलेशन क्षमता प्रभावित होती है।

3. असंतुलित आहार/Unhealthy and Unbalanced Diet:

*Pizza, Burger जैसे शरीर के लिए हानिकारक junk/fast food।

*ज्यादा Oily, वसायुक्त और मीठा खान पीन।

4. कई तरह के रोग/Diseases :

PCOD होने के पीछे मधुमेह/Diabetes/sugar और उच्च रक्तचाप/high blood pressure/Hypertension जैसे रोग भी एक बड़ी वजह है।

5. आनुवंशिकता

अगर परिवार में किसी को PCOD की history है तो अनुवांशिकता यह भी एक कारण है।

6. Lipid Profile का असन्तुलन होना

Cholesterol Level का बढ़ना,
HDL लेवल का कम होना या High Triglycerides के कारण भी PCOD हो सकता है।

7. मोटापा/Obesity/Weight Gain:

अत्यधिक junk/Fast food का सेवन और Exercise के अभाव के कारण आज की Young Generation में मोटापा एक बहुत बड़ी Problem के रूप में उभरा है।

ऐसे तो मोटापा कई diseases का घर है परन्तु मोटापे/Obesity में शरीर में बढ़ी हुई अत्याधिक fat के कारण Estrogen hormone की production, Normal से ज्यादा होती है, जो की Ovary में cyst बनाने के लिए Reason माना जाता है।

8. तनाव/Stress:

आज के Hectic दिनचर्या में बढ़ रहे Stress के कारण लोगो का खानपान और Lifestyle बिगड़ चुकी है।

Smoking, शराब, देर रात का खाना इत्यादि कारणों से भी hormones का असन्तुलन होता है।

PCOD का निदान/Diagnosis कैसे किया जा सकता है ?

PCOD Test

इस का निदान करने के लिए निम्नलिखित Test किये जाते हैं :

  • Ultra Sound Scanning of Pelvis / Vagina
  • Serum LH Levels
  • Serum FSH Levels
  • LH : FSH ratio Levels
  • DHEA-S Levels

अगर आपको ये आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे like और share करें
अगले आर्टिकल में हम इसके उपचार और diet के बारे में discuss करेंगे

You can check the following links

For Memory Increase, Brain Function Boost Up and to lower High Blood Pressure

http://bit.ly/BrainPil

For Fat Decimator System, A Weight Loss Program http://bit.ly/BrandNewWeightLossFormula

For Better Sleep Naturally and for High Blood Pressure

http://bit.ly/Remvital

For Digestive Supplement Probiotic

http://bit.ly/ProbioticT-50

For Anti-Ageing Formula

http://bit.ly/GenF2Plus

For Type 2 Diabetes and Weight Loss http://bit.ly/Halkidiabetesremedy

For 12 Day Yoga Challenge

http://bit.ly/ChallengeYoga-Burn

You Can MAIL ME AT [email protected]

SUBSCRIBE MY CHANNEL BY CLICKING BELOW http://bit.ly/MyChannelAyurvedGuide

VISIT MY HEALTH WEBSITE https://www.ayurvedguide.com

FOLLOW ME ON MY FACEBOOK PAGEhttps://www.facebook.com/drseemagupta8

FOLLOW ME ON INSTAGRAMhttps://www.instagram.com/seemagupta43

FOLLOW ME ON TWITTER https://twitter.com/GuptaDrseema

FOLLOW ME ON LINKEDIN https://www.linkedin.com/in/drseema-g…

FOLLOW ME ON PINTEREST https://in.pinterest.com/ayurvedguide

FOLLOW ME ON REDDIT https://www.reddit.com/user/seemadr50



3 COMMENTS

  1. What’s Happening i am new to this, I stumbled upon this I have discovered It absolutely useful and it has
    aided me out loads. I am hoping to give a contribution & assist other users like its
    helped me. Good job.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here