Gathiya Ayurvedic Treatment – Gathiya Bimari – गठिया रोग का इलाज

Post Contents

- Advertisement -

Gathiya Ayurvedic Treatment – Gathiya Bimari – गठिया रोग का इलाज

जानते हैं आर्थराइटिस यानि गठिया के बारे में कि, 

  1. गठिया रोग क्या होता है। 
  2. गठिया होने के क्या क्या कारण होते हैं। गठिया होने पर क्या क्या लक्षण यानि सिम्पटम्स हमें नजर आते हैं। 
  3. इसके साथ साथ हम जानेंगे कि गठिया रोग को दूर करने के लिए क्या क्या घरेलू उपाय किए जा सकते हैं।
  4. Advertisement
  5. इसके अलावा यह भी जानेगें कि गठिया रोग में क्या नहीं खाना चाहिए।

गठिया को आर्थराइटिस के नाम से भी जाना जाता है, ये सौ से भी ज्यादा प्रकार का होता है। यदि व्यक्ति को गठिया रोग हो जाता है तो उसे चलने फिरने में उठने बैठने बहुत ज्यादा तकलीफ होती है।

तो सबसे पहले हम जानते हैं आखिर,

गठिया रोग होता क्या है। 

गठिया रोग purine  नामक प्रोटीन के मेटाबॉलिजम (Metabolism) की विकृति से होता है, जब ब्लड में यूरिक एसिड (Uric Acid) की मात्रा बढ़ जाती है,

- Advertisement -

तो व्यक्ति जब कुछ देर के लिए बैठता या फिर सोता है तो यही यूरिक एसिड, जॉइंटस यानी जोड़ों में जमा होने लगता है और यह धीरे धीरे गठिया का रूप ले लेता है।

यूरिक एसिड हमारे शरीर में कई तरह के खाद्य पदार्थों को खाने से बनता है। आर्थराइटिस (Arthritis) यानी गठिया एक ऐसी बीमारी है जिसमें व्यक्ति के जॉइंट्स यानी जोड़ों में दर्द (Joint Pain) के साथ साथ सूजन भी आ जाती है। 

इसके अलावा इस रोग में व्यक्ति के जोड़ों में गांठें भी बन जाती है जिस वजह से ही इसे गठिया कहा जाता है और गठिया शरीर के किसी भी एक जोर से शुरू होता है और धीरे धीरे शरीर (Body) के सभी जोड़ प्रभावित होते हैं। 

इससे सभी जॉइंट्स में असहनीय दर्द होने लगता है जिसकी वजह से व्यक्ति का चलना फिरना उठना बैठना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। 

Gathiya hone ka karan – गठिया होने के क्या क्या मुख्य कारण हैं – Gathiya in body 

- Advertisement -

गठिया होने की सबसे बड़ी वजह है शरीर में यूरिक एसिड (Uric Acid) का बढ़ जाना। 

जब शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा अधिक हो जाती है तो जोड़ों में छोटे छोटे क्रिस्टल्स के रूप में जमा होने लगता है और इसकी वजह से जोड़ों में दर्द और सूजन हो जाता है। 

2. हमारे शरीर को सभी प्रकार के पौष्टिक पदार्थों की आवश्यकता होती है। इसमें कैल्शियम (Calcium) भी शामिल है। 

कैल्शियम का मुख्य काम हड्डियों को मजबूत रखना होता है और अगर हम कैल्शियम युक्त आहार का सेवन नहीं करते तो इस कारण से भी गठिया रोग हो सकता है।

3. कुछ बीमारी वंशानुगत (Hereditory) भी होती है जोकि पीढ़ी दर पीढ़ी चलती है। इनमें आथ्र्राइटिस यानी गठिया भी शामिल है। 

- Advertisement -

यदि आपके परिवार में किसी सदस्य को गठिया हो तो इस कारण से भी आपको यह रोग हो सकता है। 

4. इसके अलावा यदि आपकी लाइफस्टाइल (Lifestyle), डेली रुटीन बहुत ही आरामदायक हो यानि आप कोई फिजिकल एक्टिविटीज न करते हों तो इस वजह से भी आपको गठिया हो सकता है।  

Read more, Stool – जरूरी लक्षण जो हमारी सेहत के बारे में हमारा मल बताता है

5. अगर हमारा इम्यून सिस्टम (Immune System) यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता स्ट्रॉन्ग न हो तो इस कारण से भी गठिया हो सकता है, क्योंकि ये एक ऑटोइम्म्युन डिसऑर्डर (Autoimmune) है, और जब हमारी इम्युनिटी वीक होती है, तब ये हम पर अटैक करता है

6. वजन ज्यादा होना भी गठिया का मुख्य कारण होता है क्योंकि जब हमारे पैर शरीर का सारा भार उठाने में असमर्थ हो जाते हैं तो इससे घुटनों के जोड़ में बहुत अधिक जोर पड़ता है और दर्द होने लगता है। इसलिए मोटापा (Obesity) भी गठिया होने का मुख्य कारण है। 

7. जैसे जैसे उम्र बढ़ती है हमारे शरीर के हर जॉइंट्स वीक होने लगते हैं। इसके साथ साथ मसल्स भी वीक होते हैं जिसकी वजह से हमारे शरीर में जोड़ों का फंक्शन नॉर्मल नहीं होता है तो बढ़ती उम्र भी गठिया होने का कारण है। 

8. स्मोकिंग न सिर्फ फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है। इसके अलावा यह हड्डियों के लिए भी बहुत ही नुकसानदायक होता है।

इसलिए जो लोग स्मोक या ड्रिंक ज्यादा करते हैं उन्हें भी गठिया रोग हो सकता है।

9.  इसके अलावा गठिया कई बार घुटनों में चोट लगने के कारण भी हो सकता है तो इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें। 

Gathiya bai ke lakshan – गठिया होने के क्या क्या लक्षण होते हैं

1. गठिया का सबसे पहला लक्षण होता है, जोड़ों में दर्द होना। अगर यह दर्द व्यक्ति को लंबे समय तक हो और इसका इलाज न करवाया जाए तो यह व्यक्ति के लिए बहुत ज्यादा नुकसानदायक भी हो सकता है। 

2. अक्सर ऐसा भी देखा गया है कि आर्थराइटिस होने पर रोगी के घुटनों के जॉइंट में अकड़न सी हो जाती है। यह भी इसका मुख्य लक्षण है। 

3. पैरों में गठिया का असर सबसे जल्दी दिखता है। इसमें पैरों के अंगूठों में बुरी तरह से सूजन आ जाती है और यह तब तक प्रॉब्लम ठीक नहीं होती जब तक इसका इलाज न करवाया जाए। 

4. जब उंगलियों के जोड़ों में यूरिक एसिड के क्रिस्टल जमा हो जाते हैं तो इससे उंगलियों के जॉइंट्स में बहुत अधिक सूजन हो जाती है 

और इसमें भयंकर दर्द भी होने लगता है जिसकी वजह से उंगलियां मोड़ नहीं पाती हैं। 

5. इसका एक मुख्य लक्षण हैं कोहनियों में सूजन आ जाना। कई बार एल्बो में सूजन आ जाती है और बोन पेन भी होता है। 

6. यदि किसी व्यक्ति को घुटनों में अचानक से सूजन आ जाती है तो इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें क्योंकि यह भी गठिया का ही लक्षण है।

इसके अलावा अगर आपको जोड़ों में दर्द के साथ साथ खाने में बिल्कुल भी रुचि नहीं लगती हो या फिर बहुत कम भूख लगती हो तो भी इसे नजरअंदाज न करें क्योंकि यह भी गठिया का लक्षण है। 

गठिया रोग को दूर करने के घरेलू उपाय – Gathiya ayurvedic upchar

1. रोजाना मेथी दाना (Fenugreek) का सेवन करें। 

इसके लिए आप मेथी के दानों को रात भर गरम पानी में भिगोकर रख दें और फिर सुबह उठते ही इसके पानी को पी लें और मेथी दाना को चबा चबाकर आराम से खा लें। 

इसका रोजाना सेवन करने से ये गठिया रोग दूर करने में बहुत ही सहायक होगा। 

2. इसके साथ साथ दालचीनी (Cinnamon) का नियमित रूप से सेवन करें। 

दालचीनी में एंटीऑक्सिडेंट और दर्द निवारक गुण होते हैं जो आथ्र्राइटिस के दर्द से राहत दिलाता है। 

इसके लिए आप दालचीनी को पहले अच्छी तरह से पीस लें और फिर आपको लेना है, 

  • एक चम्मच दालचीनी पाउडर और
  • एक चम्मच शहद। 
  • अब इसे एक कप गरम पानी में मिलाकर पीएं। 
  • यदि आप इसका रोजाना सुबह खाली पेट सेवन करते हैं तो यह आपके लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होगा। 

3. Gathiya lahsun – लहसुन (Garlic) का सेवन करना गठिया की समस्या के लिए एक रामबाण इलाज है। 

यदि आप डेली सुबह को खाली पेट 2 से 3 लहसुन की कच्‍ची कलियां चबा चबाकर खाएं और उसके बाद गुनगुना पानी पी लें तो इससे आपको काफी फायदा होगा। 

पर अगर आपको इसे खाना पसंद न हो तो आप लहसुन को तेल में डालकर भी यूज कर सकते हैं। इसके लिए आपको लेना है,

Read more, Loose Skin – झुर्रियों और ढीली त्वचा से छुटकारा पाने के लिए घरेलू उपाय

4.सेंधा नमक, जीरा, हींग, पीपल, काली मिर्च और सौंठ। 

इन सभी को दो दो ग्राम की मात्रा में लेकर अच्छी तरह से पीस लें और फिर इस पेस्ट को कैस्टर ऑयल यानि अरंडी के तेल में भून लें और उसके बाद इसे बॉटल में भरकर रख दें। 

जब भी आपको दर्द हो तो आप इसे दर्द वाली जगह पर लगा दें। इससे आपको बहुत आराम मिलेगा। 

5.अगली रेमेडी में हम प्रयोग करेंगे अदरक(Ginger)

अदरक में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो गठिया रोग दूर करने में बहुत ही फायदेमंद होता है। 

तो इस रेमेडी को कैसे बनाना है। 

इसके लिए आप

  • 6 चम्मच सौंठ पाउडर यानि सूखी अदरक का पाउडर लें और
  • 6 चम्मच आपको लेना है, काले जीरे का पाउडर और फिर इसमें
  • तीन चम्मच काली मिर्च पाउडर मिला लें। 

अब आपको रोजाना इस मिश्रण को आधा चम्मच दिन में तीन बार लेना है ये आपके लिए बहुत ही लाभदायक होगा। 

ये तो मैंने हमने घरेलू उपचार जाना, जिसकी मदद से आप गठिया रोग को दूर कर सकते हैं। 

पर इसके अलावा कुछ एडिश्नल टिप्स भी जानते हैं, जिसे आप नियमित रूप से फॉलो करते हैं तो आप जल्द ही गठिया रोग को आसानी से दूर कर सकते हैं। 

1. आप अपना वजन कंट्रोल में रखें यानि अपना वेट ज्यादा बढने ना दें। 

2. इसके साथ साथ विटामिन डी जोड़ों के दर्द को दूर करने के लिए भी बहुत ही अच्छा होता है। 

3. इसके लिए पर्याप्त मात्रा में सुबह के समय सूर्य की रोशनी लें और साथ ही साथ विटामिन डी युक्त आहार का सेवन करें। 

4, यूरिक एसिड की मात्रा शरीर में संतुलित करने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीएं। यदि आप सही मात्रा में पानी पीते हैं तो इससे भी गठिया रोग दूर करने में मदद मिलती है। 

5. Gathiya me yoga

अब सबसे इम्पोर्टेन्ट है योग। 

यदि आप रोजाना योग करते हैं तो आपको गठिया अगर स्टार्टिंग स्टेज है तो जल्दी छुटकारा मिल सकता है। इसलिए योग जरूर करें

गठिया रोग में क्या नहीं खाना चाहिए? Gathiya vadi food

इसमें आलू, चावल, तली हुई चीजें खाने से परहेज करें। 

इसके साथ साथ ज्यादा चीनी नहीं खाना चाहिए। 

कैफीन का सेवन न करें तो अच्छा है। 

इसके अलावा सर्दी और बारिश के मौसम में गठिया के रोगी को ठंडे पानी से नहीं नहाना चाहिए।

उम्मीद करती हूँ आपके लिए ये आर्टिकल फायदेमंद सिद्ध होगा

Summary
Gathiya Ayurvedic Treatment - Gathiya Bimari - गठिया रोग का इलाज
Article Name
Gathiya Ayurvedic Treatment - Gathiya Bimari - गठिया रोग का इलाज
Description
Gathiya Ayurvedic Treatment - Gathiya Bimari - गठिया रोग का इलाज - ठिया रोग क्या होता है। गठिया होने के क्या क्या कारण होते हैं। गठिया होने पर क्या क्या लक्षण यानि सिम्पटम्स हमें नजर आते हैं। इसके साथ साथ हम जानेंगे कि गठिया रोग को दूर करने के लिए क्या क्या घरेलू उपाय किए जा सकते हैं। इसके अलावा यह भी जानेगें कि गठिया रोग में क्या नहीं खाना चाहिए।
Author
Publisher Name
Ayurved Guide
Publisher Logo
- Advertisement -
DrSeema Guptahttps://www.ayurvedguide.com
I am an Ayurvedic Doctor, serving humanity through Ayurveda an Ancient System of Medicine from the last 21 years, by advising Ayurveda principles and healing the ailments. I follow the principle that prevention is always better than cure.

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Best Tea For Health – क्या आप भी पीते हैं, हानिकारक चाय कॉफी अपनाएं ये स्वस्थ ड्रिंक्स

Best Tea For Health - क्या आप भी पीते हैं, हानिकारक चाय कॉफी अपनाएं ये स्वस्थ ड्रिंक्स हम...

Gathiya Ayurvedic Treatment – Gathiya Bimari – गठिया रोग का इलाज

Gathiya Ayurvedic Treatment - Gathiya Bimari - गठिया रोग का इलाज जानते हैं आर्थराइटिस यानि गठिया के बारे...

Migraine Food Triggers – Dietary Triggers of Migraine Headaches.

Migraine Food Triggers - Dietary Triggers of Migraine Headaches. In this article, let's know, dietary triggers of migraine headaches.

Get in Touch

83,651FansLike
1,456FollowersFollow
7,176FollowersFollow
943FollowersFollow
10,700SubscribersSubscribe

Latest Posts

Best Tea For Health – क्या आप भी पीते हैं, हानिकारक चाय कॉफी अपनाएं ये स्वस्थ ड्रिंक्स

Best Tea For Health - क्या आप भी पीते हैं, हानिकारक चाय कॉफी अपनाएं ये स्वस्थ ड्रिंक्स हम...

Gathiya Ayurvedic Treatment – Gathiya Bimari – गठिया रोग का इलाज

Gathiya Ayurvedic Treatment - Gathiya Bimari - गठिया रोग का इलाज जानते हैं आर्थराइटिस यानि गठिया के बारे...

Migraine Food Triggers – Dietary Triggers of Migraine Headaches.

Migraine Food Triggers - Dietary Triggers of Migraine Headaches. In this article, let's know, dietary triggers of migraine headaches.

Low Hemoglobin – खून बढ़ाने, एनीमिया, हीमोग्लोबिन व आइरन की कमी ठीक करने के घरेलू उपाय

Low Hemoglobin - खून बढ़ाने, एनीमिया, हीमोग्लोबिन व आइरन की कमी ठीक करने के घरेलू उपाय जो भी...

Thyroid Diet for Weight Loss – थाइरोइड की बीमारी क्या है? इसके होने के कारण लक्षण व घरेलू उपाय

Thyroid Diet for Weight Loss - थाइरोइड की बीमारी क्या है? इसके होने के कारण लक्षण व घरेलू उपाय
Summary
Gathiya Ayurvedic Treatment - Gathiya Bimari - गठिया रोग का इलाज
Article Name
Gathiya Ayurvedic Treatment - Gathiya Bimari - गठिया रोग का इलाज
Description
Gathiya Ayurvedic Treatment - Gathiya Bimari - गठिया रोग का इलाज - ठिया रोग क्या होता है। गठिया होने के क्या क्या कारण होते हैं। गठिया होने पर क्या क्या लक्षण यानि सिम्पटम्स हमें नजर आते हैं। इसके साथ साथ हम जानेंगे कि गठिया रोग को दूर करने के लिए क्या क्या घरेलू उपाय किए जा सकते हैं। इसके अलावा यह भी जानेगें कि गठिया रोग में क्या नहीं खाना चाहिए।
Author
Publisher Name
Ayurved Guide
Publisher Logo